काला हिरण हिंदी कहानी

       

                काला हिरण हिंदी कहानी

 

Short moral stories in hindi   बहुत समय की बात है। जमुना की तराई में एक बहुत ही घना जंगल था। जंगल में बहुत तरह के पशु, पंक्षी रहते थे। जंगल के बीच में एक झील थी सभी जानवरों को पानी पीने के लिए इस झील पर आना पड़ता था। एक दिन हिरणों का झुंड पानी पीने उसे झील के किनारे आ गया। दोपहर का समय था हिंसक जानवर खा पीकर सो गए थे।

ये भी पढ़ें:- महाभारत की कहानी का एक ऐसा अध्याय जिसे आपने सुना ही नहीं होगा, अश्वत्थामा की एक ऐसी कहानी की कहा जाता है कि अश्वत्थामा आज भी जिंदा है।

हिरनों ने सोचा कि यह पानी पीने का अच्छा समय था ।इसलिए वे झुंड में उस झील के किनारे गए जो सबसे बड़ा झुंड था। उस झुंड में तीस हिरण थे। इन हिरणों का सरदार काले रंग का था। काले हिरण बहुत कम रह गए थे ।काले हिरण का छोटा सा परिवार था। उसकी पत्नी और उसके दो बच्चे थे ।काला हिरण और हिरनों से ज्यादा तेज दौड़ सकता था। और वह देखने में भी बहुत ही सुंदर लगता था।

 Short moral stories in hindi  एक दिन बड़ी ही अजीब घटना घटी। जंगल में एक शिकारियों का दल आ गया ।शिकारी शिकार ढूंढ रहे थे। उन्हें कोई भी शिकार मिल नहीं रहा था। प्यास के मारे शिकारियों का बड़ा ही बुरा हाल था। वह पानी के लिए इधर उधर भटक रहे थे। तब उन्हें झील दिखाई दी और फिर उन शिकारियों की जान में जान आ गई।

ये भी पढ़ें :– बच्चों की 10 मजेदार कहानी short moral stories in hindi

उन शिकारियों ने पानी पिया और उन्हें बहुत ही संतोष मिला। क्योंकि शिकारी  थक गए थे। उन्होंने सोचा कि कुछ देर वहाँ उन्हें आराम करना चाहिए। सभी शिकारी उस झील के किनारे पेड़ के पास अपनी बंदूके रख कर सोने लगे ।। तभी उन्हें कुछ आहट सुनाई दी। और उन्होंने देखा कि

हिरनों का झुंड पानी पीने आया था। यह आहट उस झुंड की थी जिसमें वह काला हिरण था ।हिरनों ने शिकारियों को देख लिया था। 
  हिरनों का झुंड बड़े-बड़े झाड़ियों के पीछे छुप गया।
शिकारियों ने हिरणों का पीछा किया ।हिरन बहुत ही हिम्मती थे ।हह भागे नहीं थे। वह सभी झील के किनारे की झाड़ियों में छिपे हुए थे। इन शिकारियों में देश का राजकुमार भी था ।वह काले हिरण को देखकर चकित हो गया। उसके दिमाग में यह आया कि यह तो बहुत ही अद्भुत जानवर है।
राजकुमार काले हिरण को जिंदा पकड़ना चाहता था। अगले दिन उसने कुछ चतुर शिकारियों को बुलाया। और झील के किनारे बड़े-बड़े चार जाल बिछा दिए। उनका मानना ​​था कि हिरनों का झुंड झील पर पानी पीने को जरूर आएगा। शिकारी हिरनों की प्रतीक्षा करने लगे। कुछ देर बाद शिकारियों ने हिरनों को आते देखा और शिकारी झाड़ियों के पीछे छुप गए। 
            हिरणों का झुंड झील की ओर बढ़ रहा था। और काला
 हिरण झुंड में सबसे आगे था। शिकारी उन्हें घेरना चाहते थे। एक शिकारी झाड़ियों की ओट से पीछे पहुंच गया। उसने हवा में गोली चलाई गोली की आवाज सुनते ही हिरणों में भगदड़ मच गयी। इसी भागदड़ में काला हिरण जाल में फंस गया था शिकारी भी यही चाहते थे। उन्हें हिरणों का शिकार तो करना ही नहीं था। राजकुमार बाकी हिरणों को भागा देना चाहता था। पर वह हैरान रह गया कि काले हिरण को जाल में फंसा देखकर बाकी हिरण भी उसी के आसपास आ गए ।
वे घेरा बनाकर काले हिरण के चारों ओर खड़े हो गए ।सारे हिरन अपने नेता के लिए आत्मसमर्पण के लिए तैयार थे ।उसी समय हिरनी धीरे से बाहर निकली उसकी आँखों में आंसू बह रहे थे। वह धीरे-धीरे हिरन पास आई और सींगों से उसे खुजलाने लगी। भला मुक पशु भी क्या कहती ।  
राजकुमार को यह सब एक सपना जैसा लग रहा था ।वह थोड़ा आगे बढ़ा। उसे विश्वास था कि उसे देखकर हिरनी भाग खडी होगी। किंतु ऐसा नहीं हुआ। हिरनी उसी तरह खड़ी काली हिरण को खुजलाती रही।
Short moral stories in hindi 
राजकुमार चाहता  तो आसानी से हिरनी को भी पकड़ सकता था, उसने ऐसा नहीं किया कुमार ने कहा। इस हिरण को छोड़ दो। .हिरन को उन्होंने छोड़ दिया। उनके  साथ उसका झुंड भी चला गया।   ने अपने सपने में उन्हें वही काला हिरण दिखाई दिया। राजकुमार की आंखें खुल गई। दिन निकलने वाला था, राजकुमार ने खिड़की खोल कर बाहर देखा। अपने बगीचे में उन्होंने काले हिरण और हिरनी को देखा।

राजकुमार तुरन्त बगीचे में चला गया। उन्होंने हिरण को प्यार से पुचकारा।वे दोनों कुछ देर तक राजकुमार के पास खड़े रहे। उस दिन के बाद से दोनों हर रोज़ राजकुमार के बगीचे में आने लगे।

कुछ दिनों बाद राजकुमार राजा बन गए ।राजा बनते ही उसने जंगली जानवरों के शिकार पर रोक लगा दी। उसके राज्य में सभी जंगली जानवर निर्भय होकर खुश से रहने लगे।

Short moral stories in hindi
जरुर पढें:- health tips in hindi
Categories Story

Leave a Comment