गौतम बुद्ध की प्रेरणादायक कहानी

            

          
महात्मा गौतम बुद्ध की प्रेरणादायक कहानी
महात्मा गौतम बुद्ध

गौतम बुद्ध की की कहानी    एक बार महात्मा बुद्ध एक गांव में उपदेश दे रहे थे। वह बोले हमें क्रोध नहीं करना चाहिए ।क्रोध के कारण हम स्वयं का और दूसरों का भी नुकसान करते हैं।

इसलिए हमें क्रोध नहीं करना चाहिए ।उस सभा में बहुत लोग बैठे थे उसमें से एक व्यक्ति उठ कर बोला। इस तरह की बातें करना बहुत आसान है उसका पालन करना बहुत मुश्किल है । और उसकी यह बात सुनकर गौतम बुद्ध शांत बैठे रहे।     

   यह देखकर उस व्यक्ति को गौतम बुद्ध के ऊपर क्रोध आया।और वह गुस्से में महात्मा बुद्ध के पास गया और उन पर थूक दिया।
महात्मा बुद्ध ने अपना मुंह पोछा।और उससे कहा कि तुम्हें और कुछ कहना है। उस व्यक्ति को और भी गुस्सा आया और उस सभा से उठ कर चला गया ।
       
 गौतम बुद्ध की कहानी   सभा खत्म हुई महात्मा गौतम बुद्ध वहां से चले गए फिर जब रात हुई ।तब तक उस व्यक्ति का गुस्सा शांत हो चुका था।उसे महात्मा गौतम बुद्ध के साथ अपने किए गए व्यवहार से बहुत बुरा लग रहा था।
        
   दूसरे दिन सुबह होते ही वह व्यक्ति महात्मा गौतम बुद्ध को ढूंढ़ता हुआ ।उनके पास जा पहुंचा और उनसे हाथ जोड़कर माफी मांगने लगा महात्मा गौतम बुद्ध ने उस व्यक्ति से पूछा कि आप कौन हैं और मुझसे माफी क्यों मांग रहे हैं।
        
  उस व्यक्ति ने गौतम बुद्ध से कहा कि कल मैंने आपके साथ बहुत ही बुरा व्यवहार किया मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए था ।
गौतम बुद्ध ने उस व्यक्ति से कहा कल की बात तो मैं कल ही छोड़ आया ।यदि मनुष्य बीते हुए कल को याद करता रहेगा ।तो अपना जीवन और अपना भविष्य कभी सुखी नहीं बिता पाएगा।

     हर बुरी बात को अगर याद रखा जाए तो जीवन और भविष्य दोनों ही रुक जाएंगे और रह जाएगी सिर्फ परेशानी इसलिए हमें अपने जीवन में घटित हर बुरी बात भुलकर आगे बढ़ना चाहिए।

           
 
ये भी पढ़ें:- 
 
 

Leave a Comment