पहेलियां बुझो बुझो क्या Puzzle games

 

पहेलियां  बुझो बुझो क्या

.१   हरा लाल डिब्बा सुराही दार ढकना ।

बुझो बुझो नहीं मारूंगी चटकना।


 .२ एक महल में चालीस चोर ,सबका मुंह काला।

पूंछ पकड़ कर आग लगा दो,हो जाए उजाला।

 

.३ पान सी पतली सुपारी ऐसा रंग

ग्यारह देवर छोड़कर चली जेठ के संग


.४ दो पग चले चार हिल गए,चले जाते मन चैना।

 तुलसीदास विचार करत, तीन शिश  दो नैना।


.५ हाथ में पैर पहाड़ चढ़ा जाता है ।

देखो जी बरखंडी बाबा कौन जानवर जाता है।


.६ एक लकड़ी का मकान।

 उसमें बैठे चालीस मेहमान।


.७ काठे का घर,काठे का द्वार।

मोहर उसमें से निकली, फूलमती मां के द्वार ।


.८ हरी है मन भरी है नौ लाख मोती जडी है।

राजाजी के बाग में दुशाला ओढ़े खड़ी है।


.९ लठ पकड़कर झठ झठ में, झटा झट।

कुछ सी सी,कुछ लज्जत कुछ में गटा गट।


.१० गली-गली दो जोगी जाए,गली फूल बिखरावत जाए।


.११ बाबा सोये इस घर में, पैर फैलाए उस घर में ।


.१२ मैंने देखा ऐसा बंदर, जो उछले पानी के अंदर ।


.१३ एक खेत में ऐसा हुआ, आधा बगुला आधा सुआ।


.१४ देखत में लाल लाल, पकड़े में गुलगुल।

ए अम्मा क्या है, ते बच्चा लूं लूं


.१५ अगल खुटा बगल खुटा। गाय मरकही दूध मीठा।


.१६ राजा के राज्य में ना मालिक के बाग में।

छिलों तो छिलका नहीं, खाओ तो गुठली नहीं।


 .१७ चार चक्र चले, दो दिया जल दो ,सूप चले।।

 आओ नाग चले पीछे नागिन चले।

उत्तर:- १ मिर्चा २ माचिस ३ अरहर की दाल ४श्रवण कुमार ५ घुंआ ६ माचिस ७ हींग ८ भुट्टटा ९ गन्ना १० गन्ना ११लौकी का पेड़ १२ मेंढ़क १३ मूली१४ मिर्चा  १५ सिंघाड़ा १६ ओला १७ हाथी

Leave a Comment