टीबी के प्रकार Tuberculosis Symptoms

 टीबी के प्रकार Tuberculosis Symptoms 

 

टीबी के प्रकार Tuberculosis Symptoms
Tuberculosis Symptoms 

 

चलिए हम आपको  Tuberculosis Symptoms से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी देते है ।यह  बैक्टीरिया से होने वाला एक अत्याधिक संक्रामक रोग है। जो कीटाणु (माइकोबैक्टेरियम ट्यूबरक्लोसीस )के कारण होता है। क्षय रोग या। Tuberculosis Symptoms  से शरीर का कोई भी भाग प्रभावित हो सकता है ।जब यह फेफड़ों पर प्रभाव डालता है। तो इसे फेफड़ों की टीबी कहा जाता है। छय रोग के सभी प्रकारों में से फेफड़ों की टीबी (पलम्नरी टीबी) pulmonary TB सबसे अधिक संख्या में होती है। भारत में 20 लाख से भी अधिक लोग  Tuberculosis Symptoms सेपीड़ित हैं।( फेफड़ों के अतिरिक्त )शरीर के अन्य किसी हिस्से में होने वाले टीबी रोग को एक्सट्रपल्मनरी टीबी Extrapulmonary TBकहा जाता है।

 टीबी के कारण और प्रभाव (How Tuberculosis Symptoms)

 जब फेफड़ों की टीबी से ग्रस्त कोई रोगी खांसता या छीकता  है ।तो उसकी छोटी बूंदे हवा के साथ वातावरण में फैल जाती हैं। यदि यह नन्ही बूंदे स्वास के साथ किसी स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में प्रवेश कर लेती हैं ,तो वह टीवी से संक्रमित हो जाता है।

 इस संक्रमित व्यक्ति को जीवन में छय रोग होने का 10 प्रतिशत खतरा बना रहता है ।यह रोग ऐसे स्थानों में अधिक फैलता है जहां हवा कम है बहुत सारे लोग एक साथ रहते हैं। यह धूल भरे क्षेत्रों जैसे खदानों में अधिक फैलता है। अल्प-पोषित व कुपोषित रोगियों में भी छह रोग का संक्रमण होने और उनकी मृत्यु हो जाने का अधिक खतरा होता है। ऐसे व्यक्तियों को उपचार के लिए दवाओं के

 साथ-साथ पौष्टिक आहार खिलाना भी जरूरी होता है ।बच्चों को दोनों प्रकार का क्षय रोग हो

 सकता है।

 

(Tuberculosis Symptoms) टीबी के लक्षण

  • दो या अधिक सप्ताह से बलगम वाली खांसी होना
  •  छाती में दर्द होना
  •  कभी-कभी रोगी के बलगम में रक्त के क्षेत्रों के साथ कुछ निम्नलिखित लक्षण भी दिखाई देते हैं। जैसे :
  • शाम के समय शरीर के तापमान में वृद्धि होना
  •  रात में पसीना आना 
  • वजन कम हो जाना
  •  भूख न लगना

 

(Tuberculosis. Symptoms Test) टीबी की पहचान कैसे करें

फेफड़ों की टीवी को पहचानने का सबसे अच्छा तरीका रोगी के बलगम की जांच कराना है।

 रोगी के बलगम में कीटाणु मौजूद होने पर टीवी के संक्रमण की पुष्टि हो जाती है। बलगम के 2 नमूनों की जांच की जाती है ।

प्रातः काल के समय रोगी के सबसे पहले थूक का नमूना जो उसके घर पर ही लिया जाता है।

 और दूसरा नमूना अस्पताल में लिया जाता है। अस्पताल के सुक्षम्दर्शी  केंद्र में ।

रोगी के घर पर बलगम इकट्ठा करने के लिए एक छोटा बर्तन दिया जाता है ।

दोनों नमूनों की 24 घंटों के भीतर जांच की जाती है।

 इसके लिए बलगम को एक विशेष द्रव्य (डाई) डालकर जांच की जाती है ।

एक प्रशिक्षित कर्मचारी सूक्ष्मदर्शी (माइक्रोकोंप) में इसकी जांच करता है।

 यदि दोनों या किसी एक नमूने में कीटाणु दिखाई दे तो व्यक्ति  Tuberculosis टीबी से पीड़ित होता है।

 यदि किसी रोगी में बलगम में कीटाणु मौजूद नहीं है परंतु रोग के लक्षण मौजूद हो , तो उसे चिकित्सा अधिकारी के पास भेजा जाता है ।

जो कुछ अन्य परीक्षण जैसे फेफड़ों का एक्सरे कराने का परामर्श दे सकते हैं।

 डॉट्स( DOTS) क्या है

डॉट्स डायरेक्टली ट्रीटमेंट कार्यक्रम है जिसमें एक स्वास्थ्य कार्यकर्ता या कोई अन्य प्रशिक्षित व्यक्ति जो रोगी के परिवार का सदस्य ना हो रोगी को अपने सामने टीबी के इलाज की दवाई खिलाता है।

 

 

टीबी का उपचार एवं देखभाल (Tuberculosi Symptoms

treatment

  • टीवी की पहचान एक्स-रे और बलगम की जांच से की जाती है।
  •  टीवी के पीड़ित सभी व्यक्तियों का टीवी के इलाज के दवाओं से उपचार किया जाता है।
  •  जिसमें तकरीबन 6 से 9 महीने लग सकते हैं।
  •  आजकल डायरेक्टली अॉब्जव्ड्र ट्रीटमेंट डॉट्स ‘शॉर्ट कोर्स ‘(कम समय में होने वाला इलाज) का प्रयोग किया जाता है।
  •  रोगियों को नियमित रूप से दवाई खानी चाहिए। और स्वस्थ महसूस करने के बावजूद निर्धारित अवधि से पहले दवाएं बंद नहीं करनी चाहिए।

 

टीबी से बचाव (Tuberculosis    Tritment)

 छोटे बच्चों को लगने वाले बीसीजी के टीके उन्हें टीवी से बचाते हैं 

बीसीजी का टीका जन्म के समय दिया जाता है।

 रोगियों को पता लगाएं और यह सुनिश्चित करें कि उनके लिए नियमित रूप से दवाई खाना जरूरी होता है ।

आवासीय परिस्थितियों में सुधार करें ।

यदि 1 महीने से अधिक समय तक खांसी आ रही हो तो उसकी जांच करवाएं। 

Webuakti Reed 
 
 
 
 
 
 
Categories Health

Leave a Comment