हल्दी वाले दूध के 16 बेहतरीन फायदे Webuakti

हल्दी वाले दूध के फायदे

हल्दी वाले दूध के 16 बेहतरीन फायदे इनमें प्राकृतिक एंटीबायोटिक (Antibiotics) गुण होते हैं।
अपने दैनिक आहार में हल्दी वाले दूध को शामिल करने से बीमारियों और संक्रमणों से बचा जा सकता है।
हल्दी को दूध में मिलाकर पीने से कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं में फायदा होता है।
खतरनाक पर्यावरणीय विषाक्त पदार्थों और हानिकारक सूक्ष्मजीवों से लड़ने के लिए यह एक प्रभावी उपाय है।

हल्दी वाले

हल्दी वाले दूध के16 बेहतरीन फायदे

हल्दी दूध के लिए नुस्खा

️1. हल्दी की जड़ का 1 इंच का टुकड़ा (ताजा) लें।
यदि ताजा प्रकार उपलब्ध नहीं है तो 1 चम्मच हल्दी पाउडर का प्रयोग करें।

️2.150ml या मैं गिलास दूध।

️३. हल्दी और दूध को 15 मिनट तक उबालें।

️4. दूध को छान लें (हल्दी का ताजा टुकड़ा निकाल लें)।

️5. इसे ठंडा करके इस दूध को पी लें।

हल्दी वाले दूध के फायदे

1.श्वसन रोग :

हल्दी वाला दूध एक एंटी-माइक्रोबियल है जो 150 वायरल संक्रमणों के जीवाणु संक्रमण पर हमला करता है।

यह श्वसन तंत्र से संबंधित बीमारियों के इलाज के लिए उपयोगी है, क्योंकि मसाला आपके शरीर को गर्म करता है और फेफड़ों की भीड़ और साइनस से जल्दी राहत देता है।

अस्थमा और ब्रोंकाइटिस को ठीक करने के लिए भी यह एक कारगर उपाय है।

2. कर्क:

यह दूध स्तन, त्वचा, फेफड़े, प्रोस्टेट और पेट के कैंसर के विकास को रोकता है और रोकता है, क्योंकि इसमें सूजन-रोधी गुण होते हैं।

यह कैंसर (Cancer)कोशिकाओं के डीएनए को नुकसान पहुंचाने से रोकता है और कीमोथेरेपी (Chemotherapy) के दुष्प्रभावों को कम करता है।

️3.एंटी इंफ्लेमेटरी :

हल्दी वाला दूध विरोधी भड़काऊ है, जो गठिया और पेट के अल्सर को रोक सकता है और उनकी रक्षा कर सकता है।

इसे ‘प्राकृतिक एस्पिरिन’ के रूप में भी जाना जाता है जो सिरदर्द, सूजन और दर्द को ठीक कर सकता है।

4.ठंड और खांसी :

हल्दी वाला दूध अपने एंटीवायरल और जीवाणुरोधी गुणों के कारण सर्दी और खांसी के लिए सबसे अच्छा उपाय माना जाता है।

इससे गले की खराश, खांसी और जुकाम में तुरंत आराम मिलता है।

5.गठिया:

हल्दी वाले दूध का उपयोग गठिया को ठीक करने और संधिशोथ के कारण होने वाली सूजन के इलाज के लिए किया जाता है।

यह शरीर में हो रहे दर्द को कम करके जोड़ों और मांसपेशियों को लचीला flexible बनाने में भी मदद करता है।

6.दर्द और दर्द :

हल्दी वाला सुनहरा दूध दर्द और दर्द से सबसे अच्छी राहत देता है।

यह शरीर में रीढ़ और जोड़ों को भी मजबूत कर सकता है।

7.एंटीऑक्सिडेंट:

हल्दी वाला दूध एंटीऑक्सीडेंट का बेहतरीन स्रोत है, जो फ्री रेडिकल्स से लड़ता है।

इससे कई तरह के रोग ठीक हो सकते हैं।

️8.रक्त शोधक :

हल्दी वाला दूध एक उत्कृष्ट रक्त शोधक और सफाई करने वाला माना जाता है।

यह शरीर में रक्त परिसंचरण को पुनर्जीवित और बढ़ावा दे सकता है।

यह एक रक्त पतला करने वाला भी है जो सभी अशुद्धियों से लसीका प्रणाली (Lymph)और रक्त वाहिकाओं को साफ करता है।

9.लिवर डिटॉक्स :

हल्दी वाला दूध एक प्राकृतिक लीवर डिटॉक्सिफायर (detoxifier)और रक्त शोधक (blood purifier )है जो लीवर के कार्य को बढ़ाता है।

यह यकृत(Liver) का समर्थन करता है और लसीका (Lymph) प्रणाली को साफ करता है।

10. अस्थि स्वास्थ्य :

हल्दी वाला दूध कैल्शियम का एक अच्छा स्रोत है जो हड्डियों को स्वस्थ और मजबूत रखने के लिए आवश्यक है।

हल्दी वाला दूध हड्डियों के नुकसान और ऑस्टियोपोरोसिस (osteoporosis) या अस्थिसुषिरता को कम करता है।

11.पाचन स्वास्थ्य :

यह एक शक्तिशाली एंटीसेप्टिक ( Antiseptic) है ।जो आंतों के स्वास्थ रखने काम करता है। और पेट के अल्सर( Stomach ulcer)और कोलाइटिस Colitis)का इलाज करता है।

यह बेहतर हमारे भोजन को पचाने में में मदद करता है और अल्सर,(ulcer)अतिसार, अपच (Indigestion) को रोकता है।

12.मासिक धर्म की ऐंठन :

हल्दी वाला दूध अद्भुत काम करता है क्योंकि यह एंटीस्पास्मोडिक (antispasmodic) है। जो मासिक धर्म में ऐंठन, सूजन,संकुचन और दर्द को कम करता है।
गर्भवती महिलाओं को आसान प्रसव, प्रसवोत्तर रिकवरी, बेहतर स्तनपान और अंडाशय के तेजी से संकुचन के लिए सुनहरी हल्दी वाला दूध लेना चाहिए।

13.रश और त्वचा का लाल होना:

कोमल, कोमल और चमकती त्वचा के लिए प्राचीन रानियों ने हल्दी वाले दूध से स्नान किया।

इसी तरह ग्लोइंग स्किन के लिए हल्दी वाला दूध पिएं।

हल्दी वाले दूध को कॉटन बॉल में भिगो दें; त्वचा की लालिमा और धब्बेदार पैच को कम करने के लिए प्रभावित क्षेत्र पर 15 मिनट के लिए लगाएं।

इससे त्वचा पहले से ज्यादा चमकदार और चमकदार बनेगी।

14.वजन घटाने:

हल्दी वाला दूध आहार वसा के टूटने में मदद करता है।

यह वजन को नियंत्रित(controlled)करने में मदद करता है।

15.ECZEMA :

खुजली के रोग एक्जिमा के इलाज के लिए रोजाना एक गिलास हल्दी वाला दूध पिएं।

16.इन्सोमनिया:

गर्म हल्दी वाला दूध एक एमिनो एसिड, ट्रिप्टोफैन पैदा करता है; जो शांतिपूर्ण और आनंदमय नींद को प्रेरित करता है।

Also Read: 

ईयरफोन से नुकसान 

स्वास्थ्य के लिए योगा का महत्व संतुलित आहार 

वजन कम करने के उपाय weight loss Health Tips 

 महात्मा गौतम बुद्ध की प्रेरणादायक कहानी

Categories Health

Leave a Comment