anemia kya hai in hindi | enimiya kise kahate hain

एनीमिया के कारण
विभिन्न प्रकार के एनीमिया के अलग-अलग कारण होते हैं। उनमे शामिल है:

➡️ लोहे की कमी से एनीमिया

👉विटामिन की कमी से होने वाला एनीमिया। आयरन के अलावा, आपके शरीर को पर्याप्त स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन के लिए फोलेट और विटामिन बी-12 की आवश्यकता होती है।

ये भी पढ़ें:- गर्म पानी पीने के फायदे और नुक्सान ठंडा पानी पीने के नुकसान

👉 सूजन का एनीमिया। कुछ रोग – जैसे कि कैंसर, एचआईवी / एड्स, संधिशोथ, गुर्दे की बीमारी, क्रोहन रोग और अन्य तीव्र या पुरानी सूजन संबंधी बीमारियां – लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में हस्तक्षेप कर सकती हैं।

👉अविकासी खून की कमी। अप्लास्टिक एनीमिया के कारणों में संक्रमण, कुछ दवाएं, ऑटोइम्यून रोग और जहरीले रसायनों के संपर्क में शामिल हैं।

ये भी पढ़ें:हल्दी वाले दूध के पीने के 17 अदभुत फायदे

👉अनीमिया अस्थि मज्जा रोग से जुड़ा हुआ है। ल्यूकेमिया और मायलोफिब्रोसिस जैसी कई तरह की बीमारियां आपके अस्थि मज्जा में रक्त उत्पादन को प्रभावित करके एनीमिया का कारण बन सकती हैं।

👉 हेमोलिटिक एनीमिया। रक्ताल्पता का यह समूह तब विकसित होता है जब लाल रक्त कोशिकाएं अस्थि मज्जा की तुलना में तेजी से नष्ट हो जाती हैं। आप एक हेमोलिटिक एनीमिया विरासत में प्राप्त कर सकते हैं, या आप इसे बाद में जीवन में विकसित कर सकते हैं।

👉दरांती कोशिका अरक्तता। यह विरासत में मिली और कभी-कभी गंभीर स्थिति हेमोलिटिक एनीमिया है।

ये भी पढ़ें:  विटामिन डी के बारे में 15 चौंकाने वाले तथ्य 

जोखिम
👉 ये कारक आपको एनीमिया के बढ़ते जोखिम में डालते हैं:
👉 कुछ विटामिन और खनिजों की कमी वाला आहार। आयरन, विटामिन बी -12 और फोलेट में लगातार कम आहार से आपके एनीमिया का खतरा बढ़ जाता है।
👉 आंतों के विकार। आंतों का विकार होना जो आपकी छोटी आंत में पोषक तत्वों के अवशोषण को प्रभावित करता है – जैसे कि क्रोहन रोग और सीलिएक रोग – आपको एनीमिया के खतरे में डालता है।
➡️ मासिक धर्म।
👉 गर्भावस्था।
👉 यदि आपको कैंसर, गुर्दे की विफलता, मधुमेह या कोई अन्य पुरानी स्थिति है, तो आपको पुरानी बीमारी के एनीमिया का खतरा हो सकता है। इन स्थितियों से लाल रक्त कोशिकाओं की कमी हो सकती है।

➡️परिवार के इतिहास
👉अन्य कारक। कुछ संक्रमणों, रक्त रोगों और ऑटोइम्यून विकारों का इतिहास आपके एनीमिया के जोखिम को बढ़ाता है। शराब, जहरीले रसायनों के संपर्क में आने और कुछ दवाओं के उपयोग से लाल रक्त कोशिका उत्पादन प्रभावित हो सकता है और एनीमिया हो सकता है।
👉उम्र ! 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में एनीमिया का खतरा बढ़ जाता है।

➡️ गर्भवती महिलाओं में खून की कमी का इलाज

भारत की महिलाओं में आमतौर पर खून की कमी यानी अनिमिया पाया जाता है। गंभीर रूप से खून की कमी से ग्रस्त माताओं में समय से पूर्व प्रसव होनी या उनकी मृत्यु हो जाने का अधिक खतरा बना रहता है।

यह सुनिश्चित करने के लिए सभी महिलाओं के शरीर में लौह तत्व पर्याप्त मात्रा में है ।सभी महिलाओं को लौह तत्व की कमी ना होने पर भी आयरन की गोलियां खा लेनी चाहिए।
‌ये भी पढ़ें:- Weight loss Health tips in Hindi वजन कम करने के उपाय

एनीमिया के कारण एक सामान्य सी जांच से अनीमिया का पता लगाया जा सकता है ।जिसमें रक्त में मौजूद हीमोग्लोबिन (एच.बी) की मात्रा का पता लगाया जाता है।

हिमोग्लोबिन की मात्रा कम होने का अर्थ होता है कि महिला अनीमिया या खून की कमी से ग्रसित है।

नीचे दी गई तालिका देखें यह जांच के दौरान की जानी चाहिए इसे करा सकते हैं।

हिमोग्लोबिन का स्तर  खून की कमी (अनीमिया) की स्थिति
11ग्राम /डीएल से अधिक  खून की कमी नहीं होना / सामान्य 
7-11ग्राम  सामान्य खून की कमी 
7 ग्राम / डीएल से  गंभीर खून की कमी 

 

➡️ यदि गर्भावस्था के दौरान महिला के खून हिमोग्लोबिन का स्तर 11ग्राम /डीएल से कम हो तो उसे ख़ून की कमी से ग्रस्त माना जाता है।

गंभीर खून की कमी अनीमिया के सामान्य लक्षण

➡️जीभ सफेद होना

➡️कमजोरी

➡️शरीर में सामान्य सूजन

 

जिन महिलाओं को खून की कमी हो गर्भवती महिला को कम से कम 100 दिनों तक आयरन फोलिक एसिड गोली रोज खाने से खून की कमी से बचाव होता है।

इसे पहले तिमाही  या कम से कम 14-16 सप्ताह की गर्भावस्था के बाद शुरू कर देना चाहिए , प्रसव के बाद भी तीन महीने तक इसी मात्रा को दोहराना चाहिए।

जरुर पढें:-

health tips in hindi 

Kids story 

विक्रम वेताल की कहानी 

अकबर बीरबल की कहानियां

 

Categories Health

Leave a Comment